IMTECH microbiologists find healing properties in Ganga water.

Indian scientists have validated the scientific basis of the mysterious ‘special power’ of the water of Ganga, which Hindus consider as ‘Brahm Dravya’ or divine elixir.

Microbiologists from the Chandigarh-based Institute of Microbial Technology (IMTECH), who had studied the special characteristics of Ganges water have found, for the first time, several Bacteriophages, which keeps it non-putrefying. Bacteriophage is a type of virus that eats bacteria.

This resolves the mystery for the self-purifying properties of Ganga water.

Analysis of the fresh water sedimentary metagenome-viromes revealed that the holy river Ganges not only house novel viromes, but also include unexplored double stranded DNA viruses,” The Indian Science Journal quotes Dr. Shanmugam Mayilraj, Senior Principal Scientist at the CSIR-Institute of Microbial Technology, Chandigarh, as saying.

For more information, Kindly read news

http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/imtech-microbiologists-find-healing-properties-in-ganga-water-3047654/

“Ganga” The Holy River

Anti-putrefaction properties of Ganga

River waters usually tend to putrefy when the lack of oxygen promotes the growth of anaerobic bacteria that lends the water a distinct smell and stale taste. The water of Ganga though considered one of the dirtiest, does not tend to putrefy over longer periods of storage. In fact, British Physician, C.E. Nelson, observed that the Ganga water taken from Hooghly river (one of its dirtiest mouths) by returning ships to England remained fresh throughout the voyage.

Anti-putrefaction Properties of Ganga was the reason East India Company ships only used water from Ganges for drinking purposes on their 3-month long voyage back to England because it stayed “sweet and fresh.” In a study conducted by Malaria Research Center in New Delhi it was observed that water from upper ambits of Ganga did not host mosquito breeding, and also prevented mosquito breeding in any water it was added to.

Anti-bacterial nature of Ganga Jal (Ganges Water)

Hindus have always believed Ganga Jal to be pure, pious and drinkable no matter what. Much reverence is given to Ganga water during Hindu rituals (from birth to death).
But is there really any scientific validity to prove it? In 1896, Ernest Hanbury Hankin (a British bacteriologist) after testing the water from Ganga wrote a paper that was published in French Journal describing that the bacterium Vibrio Cholerae that causes the deadly cholera, when put into the waters of Ganga died within three hours. The same bacteria continued to thrive in distilled water even after 48 hours.

20160409042151

Seven Lakes in Ujjain – Location and Unique Offerings Made at the Seven Holy Spots

Front with 1 pouch
There are seven holy lakes (water bodies or ponds) in Ujjain. Unique offerings are made here. The seven lakes are:

  1. Rudra Sagar
  2. Pushkar Sagar
  3. Kshir Sagar
  4. Govardhan Sagar
  5. Vishnu Sagar
  6. Purushottam Sagar
  7. Ratnakar Sagar

Rudra Sagar is located between Harsiddhi and Mahakaleshwar temples. The main offerings here are salt and idols of Nandi.

Pushkar Sagar is located north of Sakhipur at Nalia Bakhal. The offerings here are yellow cloth and chana ki dal.

Kshir Sagar is located near Yogeshwar Tekri on Nai Sarak. Offerings here include milk, utensils and gold.

Govardhan Sagar is located at nikas chowraka. Offerings here include butter, sugar cakes, pot filled with molasses and red cloth.

Vishnu Sagar is located between Ram Janardan Mandir and Sandipani Ashram. Offerings here are idols of Vishnu, panchapatra, tarbhana and achmani.

Purushottam Saga is located between Idgah and Purushottam temple near Indira Nagar colony. Offering here is Malpua put in a chalni.

Ratnakar Sagar is located at Undasa Village. Clothes of women, cosmetics and pancharatna.

WHY GANGAJAL (HOLY WATER FROM GANGA )IS POURED ON SHIVLING IN THE MONTH OF SHRAVAN…

Millions of Hindu devotees visit Shiva temples in the Hindi month of Shravan in North India and offer Gangajal or holy water from River Ganga, to Lord Shiva. The water is used to bath Shivling at temples, sacred places and in homes. Shrawan Month, also referred as Saawan, is dedicated to Lord Shiva and the Mondays, or Somwar, in the month are considered highly auspicious.
The famous Samudra Manthan (churning of ocean) episode in Hinduism took place in the Shravan month and among the things that came out during the churning were 14 types of rubies. Gods (Devas) and demons (Asuras) who were churning the ocean distributed 13 rubies among them. The 14th ruby was the poison called ‘halahal’ and it had the power to destroy all the living beings. Lord Shiva drank ‘halahal’ to save the world and it was stored in his throat and from this day Lord Shiva came to be known as Neelkanth.

To reduce the effect of poison ‘halahal’ on Shiva all the Devas that were witnessing the Samudra Manthan poured Gangajal on Shiva. This tradition is even today continued in most of the major temples dedicated to Lord Shiva. This ritual is widely performed in the Shravan month in North India by Hindu devotees.It is widely believed that Lord Shiva blesses those who bath him in holy water from River Ganga. Kanwarias in large number visit Shiva shrines like Baba Baidyanath Dham in Deoghar and Kashi Vishwanath Temple in the month.

add41To get pure & packed Gangajal from Gangotri, kindly visit 

क्यों पवित्र है गंगा?असंख्य अस्थि विसर्जनो के बाद भी – जाने वैज्ञानिक और पौराणिक कारण…

हिन्दू सनातन धर्म में माँ गंगा नदी की महिमा को कौन नही जानता | यह देव नदी हरि के चरणों से निकली हुई है और अब भगवान शिव की जटाओ में बसी हुई है | कई सालो की घोर तपस्या करके भागीरथ ने इसे धरती पर बुलवाया और सागर के पुत्रो को मोक्ष दिलवाया|

तब से यह मान्यता हो गयी की इसमे स्नान करने से मनुष्य के सभी पाप खत्म हो जाते है | हिन्दुओ की इस नदी में अपार आस्था है | मरते समय यदि किसी के मुँह में गंगा जल डाला जाये तो उसके प्राण आसानी से निकलते है और मोक्ष की प्राप्ति होती है | इसके अलावा मृत्यु के बाद मरने वाली की अस्थियो को गंगा में विसर्जित किया जाना भी आत्मा की शांति के लिए परम माना जाता है|

आज तक यह बात पहेली बना हुआ है की इस चमत्कारी नदी में असंख्य मात्रा में अस्थियों का विसर्जन होने के बाद भी यह नदी पवित्र कैसे है |

वैज्ञानिको ने जब इस नदी के जल पर शोध किया तो पाया की इस नदी में पारा धातु की मात्रा अधिक है हो हड्डियों में विद्यमान कैल्सियम और फोस्फोरस को जल में विलीन कर देती है | अत: जल दूषित नही हो पाता|

गंगा नदी का पवित्र जल जिसकी कीर्ति हमारे धर्मग्रंथो में बताई गयी है | यह मोक्षदायिनी जल कहलाता है | ऐसी मान्यता है की मरते हुए व्यक्ति के मुख में यह डाल दे तो उसे मोक्ष प्राप्त होता है|धार्मिक कार्यो में इस शुद्ध जल की जरुरत पड़ती है|

Our Variants
आप www.gangajal.com से ऑनलाइन गंगा जल की बुकिंग करा सकते है|

क्यों है शिव को सावन (श्रावण) मास प्रिय ?

1) समुद्र-मंथन के समय जब हालाहल नामक विष सागर से निकला था। उस समय सृष्टि की रक्षा के लिए भगवान शिव ने इस विष को अपने गले में धारण कर लिया। यह घटना सावन के महीने में ही हुई थी | विष के ताप को शांत करने के लिए ब्रह्मा जी के कहने पर देवताओं ने शिव जी का जलाभिषेक किया और जड़ी बूटियों का भोग लगाया। इससे शिव जी का ताप शांत हुआ, इसके बाद से ही भगवान शिव का जलाभिषेक किया जाने लगा इस अद्भुत घटना के कारण शिव को सावन अति प्रिय है और सावन में जलाभिषेक का अद्भुत फल मिलता है |

2) शास्त्रों के अनुसार सावन मास से ठीक पहलेदेवशयनी एकादशी वाले दिन भगवान विष्णुयोगनिद्रा में चले जाते हैं। इसके बाद सृष्टि के संचालन का उत्तरदायित्व भगवान शिव ग्रहण करते हैं। इसलिए सावन के प्रधान देवता भगवान शिव बन जाते हैं। यही कारण है कि सावन में अन्य किसी भी देवता की पूजा से शिव की पूजा का कई गुणा फल प्राप्त होता है। इसलिए माना जाता है कि भगवान शिव को सावन सबसे अधिक प्रिय है।

3) शास्त्रों और पुराणों के अनुसार भगवान शिव का सावन मास प्रिय होने का एक कारण यह भी है कि, माता सती के देहत्याग करने के बाद जब आदिशक्ति ने पार्वती के रुप में जन्म लिया तो इसी महीने में तपस्या करके भगवान शिव को पति रुप में पाने का वरदान प्राप्त किया। यानी भगवान शिव और पार्वती का मिलन इसी महीने में हुआ था। इसलिए यह महीना भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है।

4) इसी पवित्र सावन मास में भगवान शिव ने माता पार्वती को सर्वप्रथम राम-कथा सुनाई थी, सुनने को श्रवण कहते हैं | इसी राम कथा के सुनने और सुनाने (श्रावण) की परिपाटी में इस पवित्र माह को “श्रावण” कहा गया है और विश्व भर के हिन्दू इस माह में सत्य नारायण की कथा और राम चरित मानस का पाठ करते हैं |

profile_pic

Some Important Life Lessons from Lord Shiva That Everyone Should Learn

Lord Shiva – the supreme god in Hinduism is known to us by many names, he has 108 different avatars with different names. He is the ultimate – the creator and the destroyer of the universe. Multi-faceted, lord Shiva is the giver of wisdom. Here are 10 very important life lessons from Lord Shiva that everyone show learn

1. Never Ever Tolerate Evil

Lord Shiva never tolerated injustice.He is the destroyer of all evil things. He was fair even when destroying the rakshasas according to the Hindu texts. We should work towards zero-tolerance of evil around us and take a firm stand against injustice.

2. Exercise Self-Control

When in control, everything falls into place. Self-control is the key to a great life. It keeps one focused, aligned and determined.

3. Anger is never the answer

Lord Shiva is Maha Yogi as he meditated for hours and it was through his cool intellect the well-being of our universe severely depend on. Only extremities disturbed his mind and resulted in rage. Therefore, when fighting life’s battles, anger is never the answer. It will force you to do the extreme which achieves nothing. Being cool and calm will help you get a new perspective and win over your battles.


4. Happiness does not equal to materialism

If you have nothing it doesn’t mean you are missing out in life. Being attached to wealth or assets only leads to being tied down – physically, mentally and emotionally.


5. Take it in your stride

No matter what comes our way, we need to be prepared and take it in our stride.

6. Your Obsession will be your downfall

According to ancient Hindu text, Ramayana, Ravana’s obsession over Sita led to his end. Therefore, your obsession will lead to nothing but your own destruction. Lord Shiva never obsessed over anything and was free from all desires.

7. Nothing lasts forever

We human beings have a tendency to hoard things – possessions, people, relationships and, of course, feelings. But everything has a shelf-life and nothing will last forever. We need to learn to move on and be ready to face whatever comes our way.


8. Research will fetch new avenues

Always research before you start something new. Ganga Ma, encased in Lord Shiva’s hair represents the end of ignorance. She embodies unfathomable knowledge. Denial doesn’t help anyone and therefore, it is important to gather information before you plan to start anything new.


9. Respect your spouse/partner

Lord Shiva is also known as Ardhanarishwar, i.e. half man and half woman, and therefore, His wife, Mata Parvati was an essential part of him. He always treated her with the utmost respect. She was his Shakti and Shiva can never be apart from strength. Therefore, our spouse – wives or husbands, partners in life, are truly our better halves and we need to treat them with absolute respect and love.


10. Ego has no place in your life

A person’s ego is the biggest cause of all obstacles. Ego has ruined many goals, relationships, ideas, and dreams. It makes one bitter and aloof. Lord Shiva carried the Trishul to keep his ego in check. He never let his emotions get the better of himself. Similarly, he did not tolerate anyone’s ego either.
U.jpg

भगवान शिव की पीठ है केदारनाथ, जानें बाकी 4 अंग कहां हैं स्थापित

उत्तराखंड का हिन्दू संस्कृति और धर्म में महत्वपूर्ण स्थान है। यहां गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ जैसे कई सिद्ध तीर्थ स्थल हैं। सारी दुनिया में भगवान शिव के करोड़ों मंदिर हैं परन्तु उत्तराखंड स्थित पंच केदार सर्वोपरि हैं। भगवान शिव ने अपने महिषरूप अवतार में पांच अंग, पांच अलग-अलग स्थानों पर स्थापित किए थे। जिन्हें मुख्य केदारनाथ पीठ के अतिरिक्त चार और पीठों सहित पंच केदार कहा जाता है।
आइए अब जानते है भगवान शिव के पंच केदारों के बारे में-

1.केदारनाथ1_kedarnath-temple

यह मुख्य केदारपीठ है। इसे पंच केदार में से प्रथम कहा जाता है। पुराणों के अनुसार, महाभारत का युद्ध खत्म होने पर अपने ही कुल के लोगों का वध करने के पापों का प्रायश्चित करने के लिए वेदव्यास जी की आज्ञा से पांडवों ने यहीं पर भगवान शिव की उपासना की थी। तब भगवान शिव ने उनकी तपस्या से खुश होकर महिष अर्थात बैल रूप में दर्शन दिये थे और उन्हें पापों से मुक्त किया था। तब से महिषरूपधारी भगवान शिव का पृष्ठभाग यहां शिलारूप में स्थित है।

2.मध्यमेश्वर-

2_madhyamaheshwar-temple

इन्हें मनमहेश्वर या मदनमहेश्वर भी कहा जाता हैं। इन्हें पंच केदार में दूसरा माना जाता है। यह ऊषीमठ से 18 मील दूरी पर है। यहां महिषरूपधारी भगवान शिव की नाभि लिंग रूप में स्थित है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव ने अपनी मधुचंद्र रात्रि यही पर मनाई थी। यहां के जल की कुछ बूंदे ही मोक्ष के लिए पर्याप्त मानी जाती है।

3.तुंगनाथ-tungnath-temple

इसे पंच केदार का तीसरा माना जाता हैं। केदारनाथ के बद्रीनाथ जाते समय रास्ते में यह क्षेत्र पड़ता है। यहां पर भगवान शिव की भुजा शिला रूप में स्थित है। कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए स्वयं पांडवों ने करवाया था। तुंगनाथ शिखर की चढ़ाई उत्तराखंड की यात्रा की सबसे ऊंची चढ़ाई मानी जाती है।


4.
रुद्रनाथ-

4__rudranathtemple

 
यह पंच केदार में चौथे हैं। यहां पर महिषरूपधारी भगवान शिव का मुख स्थित हैं। तुंगनाथ से रुद्रनाथ-शिखर दिखाई देता है पर यह एक गुफा में स्थित होने के कारण यहां पहुंचने का मार्ग बेदह दुर्गम है। यहां पंहुचने का एक रास्ता हेलंग (कुम्हारचट्टी) से भी होकर जाता है।

 

5.कल्पेश्वर-5__kalpeshwar-temple

यह पंच केदार का पांचवा क्षेत्र कहा जाता है। यहां पर महिषरूपधारी भगवान शिव की जटाओं की पूजा की जाती है। अलखनन्दा पुल से 6 मील पार जाने पर यह स्थान आता है। इस स्थान को उसगम के नाम से भी जाना जाता है। यहां के गर्भगृह का रास्ता एक प्राकृतिक गुफा से होकर जाता है।

निर्जला एकादशी व्रत की महिमा!!!

हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत को महत्वपूर्ण माना गया है। वैसे तो प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियां होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती हैं। ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते हैं। निर्जला एकादशी को सबसे पुण्यदायिनी माना गया है। इस दिन बिना अन्न-जल ग्रहण किए व्रत करने का विधान है।
ekadashi

इस एकादशी पर बिना जल के रहकर उपवास करना होता है, इसी वजह से इस एकादशी का नाम निर्जला एकादशी पड़ा है। कहते हैं यह व्रत काफी कठिन और सभी इच्छाओं को पूर्ण करने वाला माना गया है।

कहते हैं इस दिन सुबह उठकर दांतों को साफ करने के लिए ब्रश-पेस्ट की जगह दातून का इस्तेमाल करना चाहिए। नित्य कर्मों से निवृत्त होकर भगवान विष्णु की मन से पूजा-अर्चना करें। भगवान विष्णु को तुलसी दल अर्पित करें। चूंकि, इस दिन तुलसी तोड़ना सही नहीं माना जाता, इसलिए आप एक दिन पहले ही सूर्य डूबने से पहले 108 दल तोड़कर रख लें और एकादशी के दिन यह भगवान पर चढ़ाएं।

मन में किसी के लिए भी क्लेश न आने दें और अपने मन को पवित्र रखने की भरसक कोशिश करें। रात्रि में भगवान की पूजा-अर्चना के बाद ही सोएं। सुबह उठकर सर्वप्रथम नित्य क्रिया से निवृत्त होकर भगवान की पूजा-अर्चना करें। इसके बाद शर्बत से भरे बर्तन, मिश्री और खरबूजा, आम, पंखा, मिष्ठान्न आदि चीजों का दान करना चाहिए।

दान के बाद मुंह में सर्वप्रथम तुलसी का दल लेकर फिर पानी पीएं और इसके बाद भोजन करना चाहिए। कहते हैं विधि-विधान के अनुसार जो यह व्रत करता है उसे साल भर के एकादशी जितना पुण्य मिल जाता है। यह व्रत अक्षय पुण्य देने वाला और सभी इच्छाओं की पूर्ति करता है यह।

निर्जला एकादशी के पीछे महाभारत से जुड़ी एक कहानी प्रचलित है। बात उन दिनों की है, जब ऋषि वेदव्यास अपने आश्रम में पांडवों को शिक्षा-दीक्षा दे रहे थे। एक दिन मुनिवर एकादशी व्रत का संकल्प करा रहे थे। पांडव उनकी बातों को ध्यान से सुन रहे थे, लेकिन…

इन बातों में भीम का मन नहीं लग रहा था। आखिरकार, इन बातों पर अपनी उदासी जताते हुए उन्होंने ऋषि से कहा कि एक माह में दो एकादशी आती है औऱ मैं दो दिन तो क्या एक समय भी बिना भोजन ग्रहण किए रह ही नहीं सकता। तो बताएं मुनिवर कि क्या एकादशी के पुण्य से वंचित रह जाऊंगा।

भीम के इस सवाल पर वेदव्यास जी ने कहा, कि सिर्फ एक उपाय है। साल भर में सिर्फ एक एकादशी है जो बाकी सारे एकादशी व्रत के समतुल्य है। यह ज्येष्ठ मास की निर्जला एकादशी है। इसे करने से उतना ही पुण्य प्राप्त होता है, जितना की इन 24 एकादशियों को करने से प्राप्त होता है। भीम को यह उपाय अच्छा लगा और इसलिए भी इसे पांडव एकादशी या भोमसेनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

+919811304305

www.gangajal.com 

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

Today’s Hindu Calendar – May 17, 2016-Shukla Paksha Ekadasi Tithi

Tithi in Hindu Calendar on Tuesday, May 17, 2016 (Today) –
Shukla Paksha Ekadasi Tithi or the eleventh day during the waxing phase of moon in Hindu calendar and Panchang in most regions. It is Shukla Paksha Ekadasi Tithi or the eleventh day during the waxing phase of moon till 5:57 PM on May 17. Then onward it is Shukla Paksha Dwadasi Tithi or the twelfth day during the waxing phase of moon. All time based on India Standard Time.
add41

+919811304305

www.gangajal.com

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri