Gangajal The Holy Water!!!

Keep Gangajal everywhere with you – at your home, office, temples or even in your car. The holy water sets positive vibrations around and fights away evil or bad omen. These holy vibrations generated, help purification of your body, mind and soul. Gangajal is known to helps achieve spiritual salvation, inner happiness and wisdom.

Our Variants
+919811304305
www.gangajal.com
skype @ Gangajal –The Holy Water
www.facebook.com/gangajalgangotri
http://www.twitter.com/HolyGangajal
info@gangajal.com/office@gangajal.com

Sakat Chauth 2016 – January 27 (Wednesday)

Sakat Chauth Vrat is observed on the fourth day of Krishna paksha, (the fading phase of moon) in the month of Magha according to Hindu lunar calendar. This year Sakat Chauth will fall on January 27, wednesday in 2016.

Sakat Chauth is also called Ganesh Chauth or Tilkuta Chauth. Lord Ganesha and the Moon God are worshiped on Sakat Chauth. This vrat is mainly observed in North India and this day is celebrated as Tilkut Chauth.

A full day fast is observed on this day. It is believed that fasting on Sakat Chauth removes all obstacles from life and Ganesha blesses his devotees with health, fortune and good children.

Significance of Tilkut on Sakat Chauth

Sesame seeds are a great source of many valuable elements such as protein, calcium, phosphorous and magnesium. The black sesame seeds are very beneficial as well and jaggery is a great source of iron and calcium .The mixture of both produce body heat, increase our immunity and prevents us from the bad effects of the cold climate.

Similarly Doorva (grass) is also considered good for detoxification of body. A healthy mind resides in a healthy body.  With a healthy mind one can overcome all the hurdles and obstacles in life. This is the real meaning of offering Tilkut and Doorva to Lord Ganesha.
Our Variants

+919811304305
www.gangajal.com
office@gangajal.com/info@gangajal.com
skype @ Gangajal –The Holy Water
www.facebook.com/gangajalgangotri

Drink Water Stored in a Copper Vessel to Reap Numerous Health Benefits

Storing water in a copper vessel creates a natural purification process. It can kill all the microorganisms (molds, fungi, algae and bacteria) present in the water that could be harmful to the body and make the water perfectly fit for drinking.

In addition, water stored in a copper vessel, preferably overnight or at least for four hours, acquires a certain quality from the copper.

Copper is an essential trace mineral that is vital to human health. It has antimicrobial, antioxidant, anti-carcinogenic and anti-inflammatory properties. It also helps neutralize toxins.

Drinking 2 to 3 glasses of water that has been stored in a copper vessel is another easy way to supply your body with enough copper.

According to Ayurveda, drinking copper-enriched water first thing in the morning on an empty stomach helps balance all three doshas (Kapha, Vata and Pitta). This also ensures proper functioning of different organs and several metabolic processes.

The top 10 health benefits of drinking water stored in a copper vessel.

1. Prevents Water-Borne Diseases

2. Keeps the Digestive System Healthy

3. Aids Weight Loss

4. Boosts Heart Health

5. Promotes Healthy Skin

6. Beats Anemia

7. Slows Down Aging

8. Stimulates Your Brain

9. Fights Inflammation

10. Regulates Thyroid Gland

profile_pic+919811304305

www.gangajal.com

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

हाईटेक होगा विश्व का सबसे बड़ा मेला,#उज्जैन #सिंहस्थ #2016

उज्जैन में लगने वाला विश्व का सबसे बड़ा मेला, सिंहस्थ 2016 सबसे ज्यादा हाईटेक भी होगा। मेले की पूरी तैयारी में 2480 करोड़ रु. खर्च होंगे। मेला क्षेत्र को हाईटेक बनाने के लिए देशभर की आईटी कंपनियां और विशेषज्ञ दिन-रात जुटे हैं। इस बार साधु-संतों के अखाड़े वाई-फाई और अन्य कई प्रकार की टेक्नोलॉजी से लैस होगें।

श्रद्धालु भी अपने मोबाइल से फ्री में नेट चला सकेंगे….
– विश्व में पहली बार साधु-संतों के अखाड़े वाई-फाई होंगे।
– 150 आश्रमों और अखाड़ों में वाई-फाइ प्वाइंट लगाए जा रहे हैं।
– 50 किमी ऑप्टिकल फाइवर और 45 किमी कॉपर केबल का नेटवर्क डाला जा रहा है।
– कई अखाड़ों में वीडियो सेटअप भी लगाए जा रहे हैं।
– कई साधु-संत अखाड़ों से लाइव स्ट्रीमिंग करेंगे।
– पुलिस के लिए बीएसएनएल 2.5 हजार सीडीएमए फोन उपलब्ध करवाएगा।
– श्रद्धालु भी अपने मोबाइल से फ्री में नेट चला सकेंगे।
– सिंहस्थ में बीएसएनएल 29 नए टॉवर लगा रहा है।
– इनमें से चार चलित टॉवर भी होंगे।
– बीएसएनएल के साथ ही सभी प्राइवेट कंपनियां अपने नेटवर्क सुधारने के लिए टॉवर लगाने के साथ ही एक-दूसरे से शेयरिंग भी कर रही हैं।
– अत्याधुनिक साधनों से लैस होगी पुलिस।
– 47 करोड़ रुपए खर्च होंगे अत्याधुनिक साधनों पर।

उज्जैन सिंहस्थ कुंभ के इस पावन अवसर पर भगवान शिव अभीषेक का पवित्र एवं पावन गंगाजल से करेंके खुद को अनुग्रहित करे।
profile_pic+919811304305

www.gangajal.com

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

केवल 91 दिन शेष #उज्जैन #सिंहस्थ #कुंभ 2016

उज्जैन में लगता है सिहंस्थ

kumbh

उज्जैन में लगने वाले कुंभ मेले को सिंहस्थ के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इस दौरान गुरु सिंह राशि में होता है। सिंहस्थ को दुनिया का सबसे बड़ा मेला भी कहा जाता है। यह मेला एक महीने (इस बार 22 अप्रैल से 21 मई तक) तक चलता है। सिंहस्थ पर्व के दौरान विभिन्न तिथियों पर स्नान करने की परंपरा है। ऐसी मान्यता है कि सिंहस्थ के दौरान पवित्र नदी में स्नान करने से पापों का नाश हो जाता है। उज्जैन में चैत्र मास की पूर्णिमा से सिंहस्थ का प्रारंभ होता है, और पूरे मास में वैशाख पूर्णिमा के अंतिम स्नान तक भिन्न-भिन्न तिथियों में सम्पन्न होती है। उज्जैन में सिंहस्थ के लिए सिंह राशि पर बृहस्पति, मेष में सूर्य, तुला राशि का चंद्र आदि ग्रह-योग जरूरी माने जाते हैं।

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. आनन्द शंकर व्यास द्वारा दी जानकारी के अनुसार, सिंहस्थ-2016 के स्नान इस प्रकार होंगे-

1. 22 अप्रैल, शुक्रवार (पर्व का आरंभ स्नान)
2. 3 मई, मंगलवार (वरूथिनी एकादशी)
3. 6 मई, शुक्रवार (वैशाख अमावस्या)
4. 9 मई, सोमवार (अक्षय तृतीया)
5. 11 मई, बुधवार (शंकराचार्य जयंती)
6. 15 मई, रविवार (वृषभ संक्रान्ति)
7. 17 मई, मंगलवार (मोहिनी एकादशी)
8. 19 मई, गुरुवार (प्रदोष व्रत)
9. 20 मई, शुक्रवार (नृसिंह जयंती)
10. 21 मई, शनिवार (प्रमुख शाही स्नान)

उज्जैन सिंहस्थ कुंभ के इस पावन अवसर पर भगवान शिव अभीषेक का पवित्र एवं पावन गंगाजल से करेंके खुद को अनुग्रहित करे।

Ujjain kumbh 2016+919811304305

www.gangajal.com

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

 

Water and Hinduism

Holy places are usually located on the banks of rivers, coasts, seashores and mountains. Sites of convergence between land and two, or even better three, rivers, carry special significance and are especially sacred. Sacred rivers are thought to be a great equalizer.
For example, in the Ganges, the pure are thought to be made even more pure. In these sacred waters, the distinctions imposed by castes are alleviated, as all sins fall away.

Every spring, the Ganges River swells with water as snow melts in the Himalayas. The water brings life as trees and flowers bloom and crops grow. This cycle of life is seen as a metaphor for Hinduism.

Water is very important for all the rituals in Hinduism. For example, water is essential as a cleaning agent, cleaning the vessels used for the poojas (rituals), and for Abhishekas or bathing of Deities. Several dravyas or nutrients used for the purpose of bathing the Deities and after use of each dravya water are used for cleansing the deity. Water offered to the Deity and the water collected after bathing the Deities are considered very sacred. This water is offered as “Theertha” or blessed offering to the devotees.

We are the Uttarkashi Minerals Corporation, is the only company duly licensed, approved and authorized by Uttarakhand Government, to pack the holy Gangajal in its purest form. From drawing of Gangajal from the sacred river Ganges till packing, Gangajal is kept untouched from human hands. Gangajal is not treated chemically in the entire packing process, so that its sanctity is not spoilt.

 Our motto is to retain our civilization and culture alive, that’s why we are dedicated to provide Gangajal –The holy water to your door step, all over the world…

 

220 ml+919811304305

www.gangajal.com 

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

www.twitter.com/HolyGangajal

Importance of Gangajal that no one knows

River Ganga is the symbol of religion, faith and purity. From ancient traditions, Gangajal (Ganaga water) is used for religious and auspicious works. Whether it’s a birth of a child or death of a person, everyone is purified with Gangajal.

Another important fact about Gangajal is that it does not get spoilt for a very long time. Science too highlights some important factors about Gangajal.

From religious perspective, Gangajal destroys the sins and gives salvation and wishes people’s desires. With so many qualities, Gangajal is also believed to be amrit. Scientific facts also proves that Ganga water is sacred and miraculous.

The scientific searches have proved that river Ganga after starting from Gomukh until it reaches the planes; it crosses many types of vegetation. That is why it has medicinal qualities in it. Scientists have also found that river Ganga has many living organisms that do not allow its water to get polluted. On the contrary, they destroy the agents that pollute water.

We are the Uttarkashi Minerals Corporation, is the only company duly licensed, approved and authorized by Uttarakhand Government, to pack the holy Gangajal in its purest form. From drawing of Gangajal from the sacred river Ganges till packing, Gangajal is kept untouched from human hands. Gangajal is not treated chemically in the entire packing process, so that its sanctity is not spoilt.

Our motto is to retain our civilization and culture alive, that’s why we are dedicated to provide Gangajal –The holy water to your door step, all over the world…

Our Variants+919811304305
www.gangajal.com
office@gangajal.com/info@gangajal.com
skype @ Gangajal –The Holy Water
www.facebook.com/gangajalgangotri
www.twitter.com/HolyGangajal

15 जनवरी को सूर्य करेगा मकर में प्रवेश…

इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी, शुक्रवार को रहेगी। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, 15 जनवरी को सुबह 7.42 बजे सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेगा। इसलिए संक्रांति के निमित्त दान, पुण्य आदि इसी दिन करना श्रेष्ठ रहेगा। 14 जनवरी को सूर्य धनु राशि में ही रहेगा, इसलिए इस दिन स्नान, दान आदि करने का कोई महत्व नहीं होगा।

मकर संक्रांति पर बनेंगे ये योग

मकर संक्राति से देवताओं का दिन आरंभ होता है, ऐसा मान्यता है। इस बार मकर संक्राति अर्की है। मकर संक्रांति उत्तराभाद्रपद नक्षत्र में आरंभ होगी, जो पशुओं के लिए सुखदायी रहेगी। पाखंड करने वालों का नाश करेगी व व्यापार के लिए फलदायी रहेगी। सूर्य मकर राशि में एवं नवांश में भी मकर में रहेगा। साथ ही, मंगल भी उच्च का होकर नवांश में मकर का रहेगा। इस योग से पूरा वर्ष अच्छा रहेगा। वर्षा जोरदार रहेगी एवं खेती में लाभ होगा।

मकर संक्रांति के अवसर पर पवित्र एवं पावन गंगाजल प्राप्त ही करने के लिये सम्पर्क् करें।

Our Variants+919811304305

www.gangajal.com 

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

www.twitter.com/HolyGangajal

महाकुंभः कब, कहां और कैसे लगता है, ये है रोचक इतिहास

देश के प्रमुख 4 धार्मिक शहरों (हरिद्वार, इलाहबाद, नासिक और उज्जैन) में कुंभ मेले का आयोजन होता है। इस साल मध्य प्रदेश के उज्जैन में 22 अप्रैल से 21 मई तक सिहंस्थ महाकुंभ आयोजित होगा।

इन 4 शहरों में लगता है कुंभ मेला

देश के इन 4 शहरों में कुंभ मेलों का आयोजन किया जाता है- हरिद्वार, प्रयाग, नासिक और उज्जैन। इन शहरों में प्रत्येक 12 सालों में विशेष ज्योतिषीय योग बनने पर कुंभ मेला लगता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार देवासुर संग्राम के दौरान इन्हीं 4 स्थानों पर अमृत की बूँदे गिरी थीं।
इससे जुड़ी कथा इस प्रकार है-

कुंभ की कथा

एक बार देवताओं व दानवों ने मिलकर अमृत प्राप्ति के लिए समुद्र मंथन किया। मदरांचल पर्वत को मथनी और वासुकी नाग को रस्सी बनाकर समुद्र को मथा गया। समुद्र मंथन से 14 रत्न निकले। अंत में भगवान धन्वंतरि अमृत का घड़ा लेकर प्रकट हुए। अमृत कुंभ के निकलते ही देवताओं और दैत्यों में उसे पाने के लिए लड़ाई छिड़ गई। ये युद्ध लगातार 12 दिन तक चलता रहा।
इस लड़ाई के दौरान पृथ्वी के 4 स्थानों (प्रयाग, हरिद्वार, उज्जैन, नासिक) पर कलश से अमृत की बूँदें गिरी। लड़ाई शांत करने के लिए भगवान ने मोहिनी रूप धारण कर छल से देवताओं को अमृत पिला दिया। अमृत पीकर देवताओं ने दैत्यों को मार भगाया। काल गणना के आधार पर देवताओं का एक दिन धरती के एक साल के बराबर होता है। इस कारण हर 12 साल में इन चारों जगहों पर महाकुंभ का आयोजन किया जाता है।

कुंभ मेले का इतिहास

विद्वानों का मानना है कि कुंभ मेले की परंपरा तो बहुत पुरानी है, लेकिन उसे व्यवस्थित रूप देने का श्रेय आदि शंकराचार्य को जाता है। जिस तरह उन्होंने चार मुख्य तीर्थों पर चार पीठ स्थापित किए, उसी तरह चार तीर्थ स्थानों पर कुंभ मेले में साधुओं की भागीदारी भी सुनिश्चित की। आज भी कुंभ मेलों में शंकराचार्य मठ से संबद्ध साधु-संत अपने शिष्यों सहित शामिल होते हैं।

महाभारत काल में होता था कुंभ

शैवपुराण की ईश्वर संहिता व आगम तंत्र से संबद्ध सांदीपनि मुनि चरित्र स्तोत्र के अनुसार, महर्षि सांदीपनि काशी में रहते थे। एक बार प्रभास क्षेत्र से लौटते हुए वे उज्जैन आए। उस समय यहां कुंभ मेले का समय था। लेकिन उज्जैन में भयंकर अकाल के कारण साधु-संत बहुत परेशान थे। तब महर्षि सांदीपनि ने तपस्या कर भगवान शिव को प्रसन्न किया, जिससे अकाल समाप्त हो गया। भगवान शिव ने महर्षि सांदीपनि से इसी स्थान पर रहकर विद्यार्थियों को शिक्षा देने के लिए कहा। महर्षि सांदीपनि ने ऐसा ही किया। आज भी उज्जैन में महर्षि सांदीपनि का आश्रम स्थित है। मान्यता है कि इसी आश्रम में भगवान श्रीकृष्ण बलराम ने शिक्षा प्राप्त की थी।

किस योग में कहां आयोजित होता है कुंभ

प्रयाग, हरिद्वार, उज्जैन व नासिक में विशेष ज्योतिषीय योगों में कुंभ पर्व का आयोजन किया जाता है। ये ज्योतिषीय योग कौन-कौन से हैं, इसकी जानकारी इस प्रकार है-

इलाहाबाद

यहां सूर्य के मकर और गुरु के वृषभ राशि में होने पर कुंभ मेले का आयोजन होता है-

मकरे च दिवानाथे वृषभे च बृहस्पतौ।
कुंभयोगो भवेत् तत्र प्रयागेह्यति दुर्लभः।।
माघेवृषगते जीवे मकरे चंद्रभास्करौ।
अमावस्यां तदा योगः कुंभाख्यस्तीर्थनायके।।

अर्थ- सूर्य जब मकर राशि में हो तथा गुरु वृषभ राशि में, तब तीर्थराज प्रयाग में कुंभ पर्व का योग होता है। इस प्रकार माघ का महीना हो, अमावस्या की तिथि हो, गुरु वृष राशि पर हो तथा सूर्य-चंद्र मकर राशि पर हो, तब प्रयागराज में अत्यंत दुर्लभ कुंभ योग होता है।

हरिद्वार

पद्मिनीनायके मेषे कुंभराशिगते गुरौ।
गंगाद्वारे भवेद्योगः कुंभनामा तदोत्तमम्।।

अर्थ- कुंभ राशि के गुरु में जब मेष राशि का सूर्य हो, तब हरिद्वार में कुंभ होता है।

नासिक

सिंहराशिगते सूर्ये सिंहराशौ बृहस्पतौ।
गोदावर्या भवेत्कुंभः पुनरावृत्तिवर्जनः।।

अर्थ- सिंह राशि के गुरु में जब सिंह राशि का सूर्य हो, तब गोदावरी तट (नासिक) में कुंभ पर्व होता है।

उज्जैन में लगता है सिहंस्थ

उज्जैन में लगने वाले कुंभ मेले को सिंहस्थ के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इस दौरान गुरु सिंह राशि में होता है। सिंहस्थ को दुनिया का सबसे बड़ा मेला भी कहा जाता है। यह मेला एक महीने (इस बार 22 अप्रैल से 21 मई तक) तक चलता है। सिंहस्थ पर्व के दौरान विभिन्न तिथियों पर स्नान करने की परंपरा है। ऐसी मान्यता है कि सिंहस्थ के दौरान पवित्र नदी में स्नान करने से पापों का नाश हो जाता है। उज्जैन में चैत्र मास की पूर्णिमा से सिंहस्थ का प्रारंभ होता है, और पूरे मास में वैशाख पूर्णिमा के अंतिम स्नान तक भिन्न-भिन्न तिथियों में सम्पन्न होती है। उज्जैन में सिंहस्थ के लिए सिंह राशि पर बृहस्पति, मेष में सूर्य, तुला राशि का चंद्र आदि ग्रह-योग जरूरी माने जाते हैं।

Ujjain kumbh 2016
+919811304305

www.gangajal.com 

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri

www.twitter.com/HolyGangajal

#Ganga #Sagar #Mela 2016 in #January at #Sagar #Island in #West #Bengal

Ganga Sagar Mela, also known as Ganga Sagar Yatra or Ganga Snan, is the annual gathering of Hindu pilgrims to take holy dip in River Ganga before She merges in the Bay of Bengal Sea during Makar Sankranti at Sagar Island or Sagardwip in West Bengal, India. Ganga Sagar Mela 2016 date is January 15.

People also take holy dip on January 14 and January 16.
The Gangasagar fair begins a couple of day early and ends on the day after Sankranti. Hindu pilgrims from India and around the world arrive at Sagar Island to take a holy dip in sacred waters of Ganga River before She merges in the Bay of Bengal.

Thousands of Hindus take holy dip at the auspicious time on Makar Sankranti day morning and offer prayers to Lord Surya (sun god). The holy dip is believed to wash the sins away and lead to the attainment of Moksha.

220 ml+919811304305

www.gangajal.com

office@gangajal.com/info@gangajal.com

skype @ Gangajal –The Holy Water

www.facebook.com/gangajalgangotri